Expect nothing, live frugally on surprise.

Wednesday, December 3, 2008

"कभी आ कर रुला जाते"


"कभी आ कर रुला जाते"

दिल की उजड़ी हुई बस्ती,कभी आ कर बसा जाते
कुछ बेचैन मेरी हस्ती , कभी आ कर बहला जाते...
युगों का फासला झेला , ऐसे एक उम्मीद को लेकर ,
रात भर आँखें हैं जगती . कभी आ कर सुला जाते ....
दुनिया के सितम ऐसे , उस पर मंजिल नही कोई ,
ख़ुद की बेहाली पे तरसती , कभी आ कर सजा जाते ...
तेरी यादों की खामोशी , और ये बेजार मेरा दामन,
बेजुबानी है मुझको डसती , कभी आ कर बुला जाते...
वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........

20 comments:

Dr. Pragya bajaj December 3, 2008 at 3:00 PM  

कुछ बेचैन मेरी हस्ती , कभी आ कर बहला जाते...
युगों का फासला झेला , ऐसे एक उम्मीद को लेकर
nice

Anonymous,  December 3, 2008 at 3:00 PM  

वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........

Anonymous,  December 3, 2008 at 3:01 PM  

दुनिया के सितम ऐसे , उस पर मंजिल नही कोई ,
ख़ुद की बेहाली पे तरसती , कभी आ कर सजा जाते ...
nice one

Prachi Pandey December 3, 2008 at 3:04 PM  

रात भर आँखें हैं जगती . कभी आ कर सुला जाते ....
दुनिया के सितम ऐसे , उस पर मंजिल नही कोई ,
ख़ुद की बेहाली पे तरसती , कभी आ कर सजा जाते ...
तेरी यादों की खामोशी , और ये बेजार मेरा दामन,
बेजुबानी है मुझको डसती , कभी आ कर बुला जाते...

Anonymous,  December 3, 2008 at 3:04 PM  

ख़ुद की बेहाली पे तरसती , कभी आ कर सजा जाते ...
तेरी यादों की खामोशी , और ये बेजार मेरा दामन,
बेजुबानी है मुझको डसती , कभी आ कर बुला जाते...
वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........waah kya baat hai!!

Dr. Neha Srivastav December 3, 2008 at 3:06 PM  

बेजुबानी है मुझको डसती , कभी आ कर बुला जाते...
वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है
good one seema jee like it
Regards

Anonymous,  December 3, 2008 at 3:06 PM  

वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........
sundar rachna

Er. Nidhi Mishra December 3, 2008 at 3:09 PM  

रात भर आँखें हैं जगती . कभी आ कर सुला जाते ....
दुनिया के सितम ऐसे , उस पर मंजिल नही कोई ,
ख़ुद की बेहाली पे तरसती , कभी आ कर सजा जाते ...
sundar

Anonymous,  December 3, 2008 at 3:09 PM  

liked it mam
Regards
ashok

Dr. Palki Vajpayee December 3, 2008 at 4:38 PM  

वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
Beautiful composition mam
Regards

Anonymous,  December 3, 2008 at 4:38 PM  

nice one.....as always seema jee
Regards

Er. Puja Kapoor December 3, 2008 at 5:39 PM  

तेरी यादों की खामोशी , और ये बेजार मेरा दामन,
बेजुबानी है मुझको डसती , कभी आ कर बुला जाते...
वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........
very nicely written mam
Regards

Dr.Nishi Chauhan December 3, 2008 at 6:29 PM  

युगों का फासला झेला , ऐसे एक उम्मीद को लेकर ,
रात भर आँखें हैं जगती . कभी आ कर सुला जाते ....
दुनिया के सितम ऐसे , उस पर मंजिल नही कोई ,
ख़ुद की बेहाली पे तरसती , कभी आ कर सजा जाते ...
nice composition
regards

Anonymous,  December 3, 2008 at 9:21 PM  

वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........
Shabdo ka maaya jaal

Er. Avinash Pandey December 3, 2008 at 9:57 PM  

वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........
last 2 lines are heart of poem.....just too good

Er. Paayal Sharma December 4, 2008 at 11:52 AM  

वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........

Dr. Aradhna Awasthi December 4, 2008 at 12:29 PM  

तेरी यादों की खामोशी , और ये बेजार मेरा दामन,
बेजुबानी है मुझको डसती , कभी आ कर बुला जाते...
वीराना, मीलों भर सुखा , मेरी पलकों मे बसता है ,
बनजर हो के राह तकती , कभी आ कर रुला जाते.........too good

Er. Snigddha Aggarwal December 6, 2008 at 2:34 AM  

तेरी यादों की खामोशी , और ये बेजार मेरा दामन,
बेजुबानी है मुझको डसती , कभी आ कर बुला जाते

  © Free Blogger Templates Blogger Theme by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP